चौक चौराहे बने आवारा मवेशियों के घर, नगरवासी परेशान, लाखों खर्च के बाद भी बरकरार मवेशियों का आतंक

0
227

मुलताई – नगर पालिका ने बीते 2 वर्षों में जितनी सक्रियता लाखों रुपए खर्च कर वाहन खरीदने में दिखाई है, उतनी सक्रियता इन वाहनों के उपयोग में दिखाई होती तो आज नगर आवारा मवेशियों के आतंक से परेशान नहीं होता। 

नगर पालिका ने लगभग 4 लाख रुपए की लागत से काऊ केचर खरीदा था। जिसके बाद यह माना जा रहा था कि नगर में आवारा मवेशियों की समस्याएं समाप्त हो जाएगी,किंतु  महीनों बीत जाने के बाद काऊ केचर नगर पालिका परिसर में खड़ा है। और नगर में आवारा पशुओं की समस्या निरंतर बढ़ती जा रही है। दैनिक सब्जी व्यापारी तो इन आवारा मवेशियों के आतंक से इतने परेशान हैं की अनेकों बार आपस में लड़ते इन मवेशियों के चलते इन सब्जी व्यापारियों को अपनी दुकान छोड़कर भागना पड़ता है।

सब्जी बाजार में घूमते आवारा मवेशियों का आतंक इतना है कि अब महिलाएं सब्जी खरीदने जाने से कतरा में लगी है।आए दिन आवारा मवेशी दुर्घटना का शिकार हो रहे हैं। घंटों मुख्य मार्ग पर बैठे मवेशियों के झुंड आवागमन बाधित कर रहे हैं। यहां तक की ताप्ती परिक्रमा क्षेत्र में भी श्रद्धालुओं को इन आवारा मवेशियों के कारण दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

परिक्रमा क्षेत्र में आवारा मवेशियों से होने वाली गंभीर घटना टली

ऋषि पंचमी पर बड़ी संख्या में महिलाएं ताप्ती तट पहुंचती है। जिसमें महाराष्ट्र से आने वाली महिलाओं की संख्या बहुत अधिक होती है। ताप्ती परिक्रमा क्षेत्र में इतनी भीड़ होती है कि पैदल चलना कठिन होता है। ऐसे समय में यहां ऋषि पंचमी पर आवारा मवेशियों ने जमकर उत्पात मचाया प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि इस दौरान भगदड़ मच सकती थी और गंभीर दुर्घटना हो सकती पर किसी तरह लोगों ने मवेशियों को खदेड़ा। परिक्रमा क्षेत्र में घूमते आवारा मवेशियों के चलते कभी भी गंभीर दुर्घटना हो सकती है।

कौन बाबू चलाया काऊ केचर की फाइल-

नगर पालिका मे हर खरीदी एवं भुगतान की फाइल संबंधित विभाग के बाबू द्वारा चलाई जाती है,किंतु काऊ केचर खरीदे महीनों गुजर जाने के बावजूद भी अब तक यह रहस्य बना हुआ है कि काऊ केचर खरीदी एवं भुगतान की फाइल किस बाबू ने चलाई थी। जीआर देशमुख कहते हैं फाइल किसने चलाई इसकी जानकारी हमें नहीं है।

इनका कहना

लाखों रुपए खर्च कर काऊ केचर खरीदा गया है,न.पा. ने इसका उपयोग करना चाहिए जो सही बात है। मै इससे सहमत हूं। अपन तो चलते फिरते 2 दिनों के सीएमओ है यह सामान्य कामकाज है यह सेक्शन किसके पास है कौन देखता है इसकी जानकारी साहब आने के बाद ही मिलेगी।

जीआर देशमुख
प्रभारी नगर पालिका अधिकारी  मुलताई


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here