2 दिन बाद भी पकड़ाए चावल से भरे ट्रक पर नहीं हुई ठोस कार्यवाही,थाना प्रभारी ने जीएसटी अधिकारी को लिखा पत्र

0
746

मुलताई- बगैर आवश्यक दस्तावेज के मुलताई पुलिस द्वारा पकड़े गए चावल से भरे ट्रक के मामले में 2 दिनों बाद भी कोई ठोस कार्यवाही नहीं हो पाई है।इधर थाना प्रभारी सुनील लाटा ने जिला जीएसटी अधिकारियों सहित सभी विभागों को पत्र लिखकर मामले की जानकारी देते हुए राय मांगी है।

इधर आज सोमवार को विनोद टेकाते , गोदाम सहायक नागरिक आपूर्ति निगम मुलताई ने थाना पहुंचकर पुलिस द्वारा बगैर कागज के पकड़ाए चावल से भरे ट्रक का जायजा लिया। जिसके बाद उन्होंने बताया कि उनका इस मामले से कोई लेना-देना नहीं है। वह उनके क्षेत्राधिकार में नहीं आता। इधर खाद्य विभाग अब तक कार्यवाही के नाम पर औपचारिकता निभाता भी दिखाई नहीं दे रहा है।यहां तक कि व्यापारी को क्लीन चिट देने के जल्दबाजी में दिखाई दे रहे हैं । जिसको लेकर जन चर्चा का बाजार गर्म है। इस मामले को 2 दिन हो चुके हैं और यह एक गंभीर मामला है। क्योंकि पकड़ाए गए चावल के पीडीएस के होने की आशंका है। किंतु इसके बावजूद भी अभी तक प्रशासन इस मामले को लेकर गंभीर नहीं हुआ है। जिसको लेकर के अनेक सवाल खड़े हो गए हैं।

बड़ा प्रश्न यह है कि मुलताई क्षेत्र में इतनी बड़ी मात्रा में चावल का उत्पादन नहीं होता है। तो फिर यह पुराना चावल इतनी मात्रा में कहां से आया? चावल खोलकर देखा गया तो इसमें जाले दिखाई दीए तो इसका मतलब यह है कि यह चावल किसी गोडाउन में रखा हुआ था। यह कौन सा गोडाउन है जहां इसे रखा गया था और गोडाउन में  चावल आया कहां से। माल भरने के बाद कोई भी ट्रक बगैर दस्तावेज के नहीं निकलता बिल बाउचर रॉयल्टी आदि सब साथ होती है किंतु ट्रक पकड़ाने के 30 घंटे बाद भी पुलिस को कागज क्यों नहीं दिए गए। पुलिस को सौपे बिलो की भी जांच की जानी चाहिए।

पुलिस सूत्र कह रहे हैंः- व्यापारी कह रहा है कि चावल किसानों से खरीदा है और यह चावल बोरदेही से आकर छत्तीसगढ़ जा रहा था। यह जानकारी भी चावल व्यापारी द्वारा ही दी गई है। यह माल मुलताई क्षेत्र का भी हो सकता है क्योंकि सूत्र बताते हैं कि उक्त व्यापारी के मुलताई में भी गोडाउन है किंतु चावल पकड़े जाने के बाद में अब तक भी मुलताई क्षेत्र की ना तो उचित मूल्य की दुकानों के रिकॉर्ड चेक किए गए और ना ही व्यापारी का गोडाउन और सबसे बड़ा प्रश्न यह है कि अगर इतनी बड़ी मात्रा में चावल पकड़ आया है तो यह आया कहां से ..?  इसका जवाब घटना के 2 दिन बाद भी किसी के पास नहीं है। जिस क्षेत्र में चावल का उत्पादन नहीं होता वहां इतनी बड़ी मात्रा में चावल आया कहां से इस मामले में सामाजिक संगठन जिला कलेक्टर से भेंट कर उच्च स्तरीय जांच की मांग करेंगे।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here