मां ताप्ती ने कराया था हस्तिनापुर का अकाल खत्म : पं.प्रदीप मिश्रा, श्रद्धा का सैलाब 3 लाख से अधिक श्रद्धालु पहुंचे

0
903

संजय द्विवेदी असलम अहमद

बैतूल- मां ताप्ती शिव पुराण के पांचवें दिन बैतूल में श्रद्धा का सैलाब दिखाई दिया एक अनुमान के आधार पर 3 लाख से अधिक श्रद्धालु आज कथा स्थल पर पहुंचे कथा को संबोधित करते हुए पंडित प्रदीप मिश्रा ने बताया कि जिस घर में पूजन होता है वहां कभी अकाल नहीं आता। सावन की शिवरात्रि में शिवलिंग निर्माण और पूजन का बेहद महत्व होता है।

मां ताप्ती ने भी हस्तिनापुर में पड़े अकाल को घर-घर शिवलिंग निर्माण और पूजन करवा कर ही समाप्त करवाया था और खुशहाली लाई थी।

पं. मिश्रा ने आज शिवलिंग पूजन के लाभ भी बताए।यदि देवाधिदेव महादेव पर आपका प्रबल भरोसा है तो वो आपको संभाल लेंगे। यदि आप एक लोटा जल भी चढ़ा रहे, बेल पत्र चढ़ा रहे तो वह भी भरोसे से ही चढ़ाओं। यदि खुद को अमर करना है तो जीवन में एक बेलपत्र का पेड़ जरुर लगाएं ताकि उसकी पत्तियां महादेव पर चढ़ती रही। इससे हम रहे या न रहे, उनकी सेवा होती रहेगी। यह आह्वान बैतूल के कोसमी स्थित शिवधाम में हो रही मां ताप्ती शिवपुराण कथा के पांचवें दिन कथावाचक पं. प्रदीप मिश्रा ने किया। आयोजन समिति के सह संयोजक द्वय आशु किलेदार और योगी राजीव खंडेलवाल ने बताया कि मौसम खुल जाने और कथा स्थल पर व्यवस्थाएं दुरूस्त हो जाने से आज कथा स्थल पर भक्तों का अपार सैलाब उमड़ पड़ा।

दान और सेवा कार्यों का बताया महत्व

पं. मिश्रा ने आज की कथा में दान और सेवा कार्यों का महत्व भी बताया। उन्होंने कहा कि जिसने खूब संपत्ति एकत्रित की, बहुत से कारखााने खोले, फैक्ट्री खोली, उसकी किसी चौराहे पर मूर्ति नहीं मिलेगी। इसके विपरीत किसी गरीब का साथ दिया, उसकी सेवा की। दान से किसी का जीवन बदला तो उसकी मूर्ति जरुर मिलेगी। एक महिला गरीब बच्चों को पढ़ाती थी। उस महिला को राष्ट्रपति पुरस्कार तक मिल गया। हमने अपने शरीर के योगदान से किसी का जीवन संवार दिया तो यहां पुरस्कार मिले या न मिले, ऊपर जरुर सम्मान मिलेगा।

कुंडकेश्वर महादेव की झांकी की गई प्रस्तुत

पांचवें दिन की कथा समाप्ति पर आज कुंडकेश्वर महादेव की आकर्षक झांकी प्रस्तुत की गई। इसके पश्चात आरती हुई। आज की आरती राजा किलेदार परिवार, सुरेंद्र सोलंकी, सदन आर्य, अनिलसिंह कुशवाह परिवार, जिला एवं सत्र न्यायाधीश बैतूल, मयंक भार्गव, समाजसेवी राजेश आहूजा, देवीसिंह ठाकुर, मोहित गर्ग, प्रवीण गुगनानी, दमोह नपाध्यक्ष किरण खातरकर, अभिषेक अग्रवाल, अनुज तोमर, कमलेश धोटे, मलखान ठाकुर, के द्वारा की गई। आज कथा सुनने के लिए कथा स्थल पर श्रद्धालुओं का जैसे सैलाब ही उमड़ पड़ा। लगभग ढाई लाख श्रद्धालु आज कथा सुनने के लिए पहुंचे। स्थिति यह थी कि पूरा कथा स्थल खचाखच भर गया।

भोजन शाला बना रही सेवा का कीर्तिमान

कथा स्थल पर चल रही भोजन शाला कथा सुनने आने वाले श्रद्धालुओं की सेवा का लगातार कीर्तिमान बना रही है। कथा शुरू होने के बाद से भोजन शाला में रोजाना लगभग एक लाख श्रद्धालुओं को नाश्ता और भोजन कराया जा रहा है। शुक्रवार को भोजन शाला में करीब डेढ़ लाख श्रद्धालुओं ने भोजन किया। इतने ही श्रद्धालु रात में भी भोजन करेंगे। कल यह संख्या और बढ़ेगी। खास बात यह है कि यह भोजन शाला पूरी तरह से जनसहयोग से संचालित है। लोगों से मिल रही सामग्री से ही भोजन तैयार कर मुहैया कराया जा रहा है। भोजन शाला प्रभारी जितेंद्र कपूर, रामकिशोर बोरबन, ओम मालवीय व मुन्ना मानकर के नेतृत्व में सभी सहयोगी और कार्यकर्ता यहां रात-दिन मुस्तैदी के साथ जुटे हैं। यही कारण है कि अभी तक एक बार भी यहां कोई अव्यवस्था नहीं हुई न कभी नाश्ता या भोजन तैयार करने में कोई विलंब हुआ। स्वादिष्ट भोजन बिल्कुल समय पर श्रद्धालुओं को उपलब्ध हो रहा है। इससे श्रद्धालु भी बेहद खुश हैं।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here