भाजपा नेता ने पत्रकार को दी धमकी, पत्रकारों ने सौंपा ज्ञापन,एसपी ने दिया आश्वासन

0


गौरतलब है कि भैंसदेही के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में गर्भवती महिलाओं, मरीजों की जान से खिलवाड़ किया जा रहा है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भैंसदेही का सुरक्षा गार्ड बाला खंडाइत एवं अन्य अकुशल कर्मचारी डॉक्टर की गैरमौजूदगी में गर्भवती महिलाओं और अन्य मरीजों के ब्लड प्रेशर और शुगर की जांच करते हैं। भैंसदेही के एक जागरूक नागरिक द्वारा उक्त कृत्य की सूचना विस्तार न्यूज चैनल के जिला संवाददाता शंकर राय को दी गई। शंकर राय जब मामले की रिपोर्टिंग करने भैंसदेही सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे उस समय अस्पताल में बीएमओ उपस्थित नहीं थी और सुरक्षा गार्ड एवं अन्य अकुशल कर्मचारी गर्भवती महिलाओं की शुगर और बीपी जांच करते पाया गया जिसका वीडियो शंकर राय ने रिकॉर्ड किया। शंकर राय ने उक्त मामले में बैतूल के मुख्य चिकित्सा अधिकारी का बयान लेकर खबर बनाई जो न्यूज चैनल पर टेलीकास्ट हुई।

खबर टेलीकास्ट होने के बाद मामले में लोगों की प्रतिक्रियाएं सामने आने लगी। इस दौरान 22 अप्रैल 2024 की रात भैंसदेही के स्थानीय भाजपा नेता बलदेव येवले ने पत्रकार शंकर राय को फोन किया और खबर रोकने के लिए कहा। बलदेव येवले ने फोन पर कहा कि इस तरह की खबरें मत बनाओ वरना ठीक नहीं होगा। तुम मेरा कुछ नहीं कर सकते और अगर इस तरह की खबरे बनाओगे तो अच्छा नही होगा। बलदेव येवले ने शंकर राय को धमकाते हुए कई बार गाली गलौज की और अपशब्दों का प्रयोग किया। पत्रकार शंकर राय के पास उक्त बातचीत की ऑडियो रिकार्डिंग भी उपलब्ध है जिसे सीडी में डालकर एसपी को सौंपी गई।संविधान के चौथे स्तम्भ मीडिया और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर ये सीधा हमला है। पत्रकार शंकर राय और उनके परिवार को बलदेव येवले द्वारा लगातार जान से मारने की धमकियां दी जा रही हैं। भाजपा नेता बलदेव येवले के उक्त कृत्य को लेकर बैतूल के इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकारों ने बैतूल पुलिस अधीक्षक निश्छल झारिया एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कमला जोशी से मिलकर एक ज्ञापन सौंपा है जिसमे घटना का विवरण है। साथ ही बलदेव येवले द्वारा धमकाए जाने के ऑडियो की एक सीडी भी ज्ञापन के साथ संलग्न कर सौंपी गई है। जिले के पत्रकारों ने भाजपा नेता बलदेव येवले के कृत्य की कड़ी निंदा करते हुए पुलिस से मामले में सख्त कार्यवाही करने की मांग रखी है। बैतूल पुलिस अधीक्षक ने मामले की निष्पक्ष जांच करवाने के बाद उचित कार्यवाही का आश्वासन दिया है।

पत्रकार शंकर राय को धमकाने वाला भाजपा नेता बलदेव येवले पूर्व में भी जमीनी विवाद, चैक बाउंस जैसे मामलों में शामिल रहा है और खुद को स्थानीय विधायक का नजदीकी बताकर रौब झाड़ता है। मामले में स्थानीय विधायक ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है जिससे साफ जाहिर हो रहा है कि बलदेव येवले विधायक के नाम का भी दुरुपयोग कर रहा है।


सुरक्षा गार्ड एवं अन्य अकुशल कर्मचारियों द्वारा गर्भवती महिलाओं एवं अन्य मरीजो की जान से खिलवाड़ को लेकर जब पत्रकार शंकर राय ने बीएमओ को फोन कर उनसे वर्जन मांगा तो बीएमओ ने मामले में कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। बीएमओ की ऐसी प्रतिक्रिया और भाजपा नेता का उनके पक्ष में आकर पत्रकार को धमकाना ये साबित करता है कि नेताओं की शह पर सरकारी कर्मचारी अपनी मनमानी करना चाहते हैं और सत्य उजागर होने से बौखलाहट में धमकाने जैसे कृत्य कर रहे हैं। मामले में अब तक मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा क्या और किससे जांच करवाई गई इस पर भी संदेह बना हुआ है। बैतूल एसपी को ज्ञापन सौंपने गए पत्रकारों में अकील अहमद, राजेश भाटिया, रिशु नायडू, अनिल वर्मा, अमित पवार, अरुण सुर्यवंशी, रूपेश मंसूरे, नंदकिशोर पवार, वाजिद खान, हुमेश्वर ठाकरे, मनोज देशमुख एवं अन्य पत्रकार शामिल थे।

———————————————————————–

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here