बाल दिवस पर बाल वैज्ञानिकों ने किया मॉडलों का प्रदर्शन लगाए व्यंजनों के स्टाल

0
324

मुलताई -नगर के सनराईज पब्लिक स्कूल मे देश के प्रथम प्रधानमंत्री चाचा नेहरू का जन्मदिन बाल दिवस उत्साह पूर्वक मनाया गया। इस अवसर पर स्कूल छात्र-छात्राओं द्वारा विभिन्न व्यंजनों के स्टाल लगाए गए अनेक विद्यार्थियों ने अपने वैज्ञानिक मॉडलों का प्रदर्शन किया।

बाल दिवस का आरंभ सनराईज प्रांगण में स्कूल संचालक की माता कमला यादव ने नेहरू जी एवं मां सरस्वती के छायाचित्र के समक्ष दीप प्रज्वलित कर किया। इस अवसर पर नगर पालिका अध्यक्ष नीतू परमार, पार्षद वंदना साहू, सुमित शिवहरे, ब्लॉक कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष किशोर परिहार, प्रह्लाद परमार ,स्कूल संचालक अरुण यादव, लोकेश यादव, कुलभूषण यादव उपस्थित थे।

इसके उपरांत अतिथियों द्वारा इस आयोजन में लगाए गए विभिन्न प्रकार के व्यंजन स्टाल का फीता काटकर शुभारंभ किया नन्हे नन्हे बच्चों द्वारा बना कर लाए गए विभिन्न प्रकार के व्यंजनो के स्टाल सजाए गए जिसमें गुलाब जामुन , समोसे, दही बड़े आदि का अतिथियों सहित कार्यक्रम में आए पालकों ने नन्हे व्यापारियों से खरीद कर उनके व्यंजनों का आनंद लिया और बालकों के प्रयास को सभी ने सराहा

इस कार्यक्रम को सुमित शिवहरे, कुलभूषण यादव, किशोर परिहार ने संबोधित करते हुए चाचा नेहरू के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि चाचा नेहरू को नन्हे बच्चों से बहुत प्यार था इसीलिए उनके जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है। नेहरू जी का मानना था कि आज के बच्चे और कल के युवा ही आधुनिक भारत के उनके सपनों को पूरा कर सकते हैं।

हम जिन्हें चाचा नेहरू कहते हैं वह देश की आजादी के लिए वर्षों तक जेल में रहे और आजादी के बाद देश के प्रथम प्रधानमंत्री के रूप में देश की आधारशिला रखी। इसके उपरांत कार्यक्रम के आगामी चरण में अतिथियों ने सनराइज स्कूल के बच्चों द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का जायजा लिया

विद्यार्थियों ने अनेक प्रकार के मॉडल के संबंध में अतिथियों को जानकारी दी जिसमें बाल वैज्ञानिक आशीष डोंगरे और वेदांत देशमुख द्वारा बनाया गया पवन चक्की का मॉडल सभी ने सराहा । इस मॉडल के माध्यम से बताया गया था कि किस प्रकार हम एक पवन स्तंभ लगाकर अपने घर में विद्युत की आपूर्ति कर सकते हैं।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here