नेताजी मुलायम सिंह यादव नहीं रहे

0
207

भोपाल- डेस्क यादव समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव का सोमवार को लंबी बीमारी के बाद गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में निधन हो गया। मुलायम सिंह यादव को लोग प्यार से नेता जी भी कहा करते थे ।

उनका देश की राजनीति महत्वपूर्ण योगदान रहा है वह 3 बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और केंद्र सरकार में रक्षामंत्री रहे। मुलायम सिंह मुलायम सिंह को सांस लेने में ज्यादा दिक्कत होने पर मेदांता अस्पताल के आईसीयू में शिफ्ट किया गया था। अस्पताल में मुलायम सिंह (82) की निगरानी खुद मेदांता समूह के निदेशक डॉ. नरेश त्रेहन कर रहे थे। हालांकि हालत बिगड़ने के बाद उनका जीवन नहीं बचाया जा सका और मुलायम ने सुबह 8.16 पर आखिरी सांस ली। उनके निधन के बाद देश के सभी राजनीतिक दलों के प्रमुख नेताओं ने शोक व्यक्त किया है। जब से मुलायम सिंह यादव अस्‍पताल में भर्ती हुए थे तब से लगातार उनके समर्थक और प्रशंसक उनकी बेहतर सेहत के लिए पूजा-प्रार्थना कर रहे थे।

भारतीय राजनीति में नेताजी का योगदान सदैव याद किया जाएगा

मुलायम सिंह यादव को देश की राजनीति में सदैव याद किया जाता रहेगा देश की राजनीति में उनका योगदान कभी भुलाया नहीं जा सकता। विशेष तौर से पिछड़ों की राजनीति में उनके क्रांतिकारी  प्रयास सदैव सराहे जाएंगे। पिछड़ा वर्ग के उत्थान एवं उत्तर प्रदेश में सामाजिक सद्भाव को बनाए रखने में मुलायम सिंह ने साहसिक योगदान को सदैव याद किया जाएगा। मुलायम सिंह की पहचान एक धर्मनिरपेक्ष नेता कि रही है।

मुलायम सिंह यादव को हम न्यूज़ की ओर से अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि

साधारण किसान के घर जन्मे थे मुलायम सिंह

मुलायम सिंह यादव का जन्म 22 नवम्बर 1939 को इटावा जिले के सैफई गाँव में मूर्ति देवी व सुघर सिंह यादव के किसान परिवार में हुआ। पिता सुघर सिंह उन्हें पहलवान बनाना चाहते थे किन्तु पहलवानी में अपने राजनीतिक गुरु चौधरी नत्थूसिंह को मैनपुरी में आयोजित एक कुश्ती-प्रतियोगिता में प्रभावित करने के पश्चात उन्होंने नत्थूसिंह के परम्परागत विधान सभा क्षेत्र जसवन्त नगर से अपना राजनीतिक सफर शुरू किया।

पिछड़ा वर्ग के उत्थान में नहीं महत्वपूर्ण भूमिका

मुलायम सिंह ने उत्तर प्रदेश में अन्य पिछड़ा वर्ग समाज का सामाजिक स्तर को ऊपर करने में महत्वपूर्ण कार्य किया। सामाजिक चेतना के कारण उत्तर प्रदेश की राजनीति में अन्य पिछड़ा वर्ग का महत्वपूर्ण स्थान हैं। समाजवादी नेता रामसेवक यादव के प्रमुख अनुयायी (शिष्य) थे तथा इन्हीं के आशीर्वाद से मुलायम सिंह 1967 में पहली बार  विधानसभा  के सदस्य चुने गये और मन्त्री बने। 1992में उन्होंने  समाजवादी पार्टी  बनाई। वे तीन बार क्रमशः 5 दिसम्बर 1989 से 24 जनवरी 1991 तक, 5 दिसम्बर 1993 से 3 जून 1996 तक और 29 अगस्त 2003 से 11 मई 2007 तक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here