निराशा जनक रहा शासकीय शालाओं का परीक्षा परिणाम,

0

मुलताई- प्रदेश सरकार ने शिक्षा के आधुनिकरण और शिक्षा स्तर में सुधार के लिए अनेको महत्वाकांक्षी योजनाएं लागू की है करोड़ों रुपए सीएम राइज विद्यालय और पीएम श्री विद्यालय के इंफ्रास्ट्रक्चर पर खर्च किया  है अन्य स्कूलों के सुधार के प्रयास हो रहे हैं किंतु क्या यह प्रयास अच्छे परिणाम में परिवर्तित हो सके हैं हमने जब इसकी पड़ताल की तो चौंकाने वाले नतीजे सामने आए हैं। हाल ही में मध्य प्रदेश बोर्ड के आय परीक्षा परिणाम नगर की शासकीय शालाओं के लिए निराशाजनक रहे हैं।

विशेष तौर से पीएम श्री शा. कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में कक्षा 12वीं का परीक्षा परिणाम 52% रहा तो वही कक्षा दसवीं के परीक्षा परिणाम मात्र 64% आए हैं जो की पिछले सालो की तुलना में बहुत ही काम है। यह कन्या शाला पीएम श्री विद्यालय घोषित होने से पूर्व में हमेशा अच्छे परीक्षा परिणाम के लिए जाना जाता था । प्रतिवर्ष इस शाला की छात्राएं प्रदेश और जिले की प्रवीण सूचियो में स्थान प्राप्त कर नगर का गौरव बढ़ती रही है किंतु इस बार विद्यालय का उन्नयन होने के बावजूद परीक्षा परिणाम निराशाजनक रहा है। यहा कक्षा 12वीं की कुल 146 छात्रवाने परीक्षा दी जिसमें से 76 छात्र छात्राएं पास हुई है

मात्र 52% और कक्षा दसवीं में 145 छात्राओं ने परीक्षा दी थी जिसमें 93 छात्राएं पास हुई है कुल 64% परीक्षा परिणाम आए है।सीएम राइज विद्यालय की बात करें तो हालांकि इस साल  पिछले साल की तुलना में 15% अच्छे परिणाम प्राप्त हुए है किंतु इस वर्ष इस शाला के एक भी विद्यार्थी ने जिले एवं प्रदेश की प्रवीण सूची में अपनी उपस्थिति दर्ज नहीं की सीएम राइज स्कूल में कक्षा 12वीं में 281 में से 230 विद्यार्थी पास हुए और रिजल्ट 82 प्रतिशत रहा वहीं कक्षा दसवीं में 223 में से 181 विद्यार्थी पास हुए हैं।

शासकीय नवीन उच्चतर माध्यमिक विद्यालय (आंग्ल स्कूल) की बात करें तो यहां 486 विद्यार्थी एवं 29 शिक्षक है यहां कक्षा 12वीं में 23 विद्यार्थी परीक्षा में बैठे थे जिसमें से 15 विद्यार्थी पास हुए हैं कक्षा 12वीं का रिजल्ट रहा 74% वही कक्षा दसवीं में कुल 55 विद्यार्थियों में से 22 ने कक्षा दसवीं की परीक्षा उत्तीर्ण की 12 विद्यार्थियों को पूरक आई है रिजल्ट मात्र 40% रहा। हाल ही में शासकीय शालाओं के परिणाम बताते हैं कि शिक्षा स्तर में सुधार के ऊपर से हो रहे प्रयास नीचे तक नहीं पहुंच रहे हैं इस सुधार के प्रयासो को नीचे से शालाओं की कक्षाओं से प्रारंभ करना होगा ।

कक्षा 12वीं का जो निराशाजनक रिजल्ट आया है उसके लिए संबंधित शिक्षकों को नोटिस जारी कर ड़ीओ  को कार्रवाई के लिए पत्र लिखेंगे।
एम एल विश्वकर्मा
प्रभारी प्राचार्य पीएम श्री शा.कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मुलताई

कक्षा दसवीं का जो रिजल्ट 40% आया है वह हमारे लिए 80% से भी ज्यादा है क्योंकि यह 40% लाने में भी हमें बहुत पापड़ बेलने पड़े क्योंकि शिक्षकों के प्रयास के बावजूद भी छात्र पढ़ना ही नहीं चाहते।

नीलिमा गार्गव
प्रभारी प्राचार्य शासकीय नवीन उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मुलताई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here