गांव को गांव से जोड़ने के लिए  नई ग्रामीण सड़क नीति  बनाए सरकार,ग्रामीण रास्तों पर पैदल चलना है दुश्वार

0
282

मुलताई -किसान संघर्ष समिति के अध्यक्ष, पूर्व विधायक डॉ. सुनीलम ने गांव को पड़ोसी गांव से जोड़ने हेतु नई ग्रामीण सड़क नीति  बनाने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को ईमेल से पत्र भेजा है।

पत्र में उन्होंने कहा कि नफरत छोड़ो, संविधान बचाओ अभियान’ के तहत  मुलताई तहसील के 25 से अधिक गांवो में उन्होंने पदयात्रा की थी। जिसमें परमंडल से बड़ेगांव, बड़ेगांव से टेमझिरा, टेमझिरा से हरनाखेड़ी, हरनाखेड़ी से खतेड़ा, बाड़ेगांव से जौलखेड़ा, जौलखेड़ा से सुकाखेड़ी, डिवटिया से कान्हा बघोली, निरगुड़ से एनस, जूनापानी से बानूर, बानूर से उमनपेठ, बिरूल बाजार से बलेगांव, बलेगांव से मीरापुर तथा ताईखेड़ा से चन्दोरा क्रमांक 1 तक सभी कच्चे रास्ते है। सभी गांव 2 से 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। जो गांव प्रधानमंत्री सड़क योजना के तहत जुड़े भी हैं, उनका इस्तेमाल करने पर ग्रामीणों को लंबी दूरी तय करनी पड़ती है। यही स्थिति बैतूल जिले सहित  मध्यप्रदेश के समस्त 52 जिलों की है।

ग्रामीणों ने उन्हें बताया कि  एक गांव से दूसरे गांव तक आने जाने में उन्हें साल भर भारी असुविधाओं का सामना करना पड़ता है। विशेषकर बरसात में इन रास्तों का पैदल चलने वाले भी इस्तेमाल नहीं कर पाते। किसान अपनी उपज को मंडियों तक नहीं ले जा सकते, न ही छात्र एक गांव से दूसरे गांव के स्कूल जा पाते हैं, न मरीज समय पर अस्पताल पंहुच पाते हैं। खेतों तक साइकिल, मोटरसाइकिल, ट्रेक्टर, ऑटो, बैलगाड़ी भी नही पंहुच पाती है।

उन्होंने कहा कि गांव से गांव तक आवागमन हेतु कम खर्चे में 4 मीटर चौड़ी  सड़क बनाकर बाद में डामरीकरण कर पक्की सड़कें बनाई जा सकती है। जिस पर भारी वाहनों का आवागमन प्रतिबंधित हो। ताकि सड़क कई वर्षों  तक खराब न हो। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया है कि राज्य सरकार गांव को पड़ोसी गांव से जोड़ने हेतु नई ग्रामीण सड़क नीति  बनाने का निर्णय अविल्ब करेगी। उन्होंने केंद्र सरकार से अनुरोध किया है कि प्रथम चरण में सभी राज्यों को दो गांव के बीच सबसे छोटे पैदल रास्ते का सर्वे करने और एस्टीमेट तैयार करने का आदेश जारी  करें।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here