चंद्रपुर जिले के लालबोरी में मिले आकाशीय अग्नि वर्षा के अवशेष,आकाश से गिरी 10 फीट व्यास की रिंग

गजा़ला अंजूम

भोपाल -शनिवार रात को मध्य प्रदेश महाराष्ट्र और गुजरात के अनेक जिलों में देखी गई आकाशीय घटना को लेकर अब भी असमंजस बरकरार है शनिवार को घटी घटना के बाद महाराष्ट्र के चंद्रपुर जिले के सिंदेवाही तहसील के ग्राम लालबोरी में आकाश से अग्नि धातु गिरने की पुष्टि हुई है।

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि तेज आवाज के साथ आकाश से एक अग्नि का गोला धरती पर गिरा जिसे देख कर के लोग पहले डर गए थे फिर इसकी सूचना स्थानीय प्रशासन को दी पुलिस वाले आए और इस 3 मीटर के आकार की रिंग ठंडा होने के बाद ट्रैक्टर में रख के ले गए। शनिवार रात को आकाश में हो रही इस अग्नि वर्षा के संबंध में यह कहा जा रहा था कि यह उल्का पिंड हो सकती है किंतु इस बीच राजनांदगांव सीमा से लगे गढ़चिरौली जिले के सिंधवाही तहसील के लाडबोरी में आसमान से आठ से दस व्यास का एक वलय आग की लपटों और बेहद रोशनी के साथ गिरने की पुष्टि होने के बाद मिली हुई वस्तुओं को देखकर उल्कापिंड होने की थ्योरी पर विश्वास नहीं हो पा रहा है और अब वैज्ञानिक दो अलग-अलग राय में बट गए हैं । धातु मिली है उसमें एक गोल धातु का छल्ला जिसका व्यास 10 फीट बताया जा रहा है।

This image has an empty alt attribute; its file name is hum0127.jpg

खगोलीय घटना को इन लोगों ने की देखने की पुष्टि

खगोलीय घटना की खबर के बाद हमको जानकारी देकर अनेक लोगों ने यह बताया कि शनिवार को हुई इस खगोलीय घटना के वह प्रत्यक्षदर्शी रहे हैं इनमें चंद्रकांत बबलू साहू जिन्होंने इस घटना को ग्राम पारड़सिगा में देखा, मुलताई में धर्मेंद्र बारंगे ने इस घटना को देखने की पुष्टि की, खेड़ला पोस्ट सेहरा से प्रवीण पांडे ने इस खगोलीय घटना को देखा, वही नर्मदा नगर से राजेश मसूरिया ने भी इस घटना को देखने की जानकारी हमें दी

This image has an empty alt attribute; its file name is hum0128.jpg

महाराष्ट्र गवर्नमेंट दिए जांच के आदेश

शनिवार को हुई खगोलीय घटना के संबंध में महाराष्ट्र सरकार के कैबिनेट मंत्री विजय वड्डेटीवार ने पत्रकारों को जानकारी देते हुए बताया कि लालबोरी  ग्राम में गिरी आकाशी वस्तु के संबंध में महाराष्ट्र सरकार ने 5 सदस्य दल बनाकर जांच के आदेश दे दिए हैं जो संपूर्ण मामले में जांच कर रिपोर्ट देगा।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here