जल स्रोतों को लेकर गंभीर नहीं नगर पालिका,सरोवर और कुएं में डाला जा रहा है कचरा

मुलताई- प्रदेश सरकार एक ओर जहां परंपरागत जल स्रोतों के संरक्षण के लिए अनेक योजनाएं चला रही है वही मुलताई नगर पालिका के जल स्रोत रखरखाव के अभाव में दम तोड़ रहे हैं नतीजा यह है कि नगर में पेयजल समस्या बढ़ती जा रही है।

पूर्व में जहां नागरिकों को गर्मी का समय छोड़कर  8 माह 1 दिन के अंतराल में पानी मिलता था वही अब पूरे वर्ष चौथे दिन 2 दिन के अंतराल में पानी उपलब्ध हो रहा है। नगर पालिका नगर के पेयजल स्रोतों के लिए कितनी गंभीर है इसका उदाहरण मासोद रोड पर स्थित कचरा खंती के पास नगर पालिका द्वारा लगभग आठ लाख रुपए की लागत से बना कुआं  है जिसमें वर्तमान समय मे कचरा डाला जा रहा है। इसी के समीप नगर पालिका का एक बोर भी है जिसमें पहले पूरे वर्ष पानी रहा करता था किंतु नगर पालिका ने बीते कुछ वर्षों में इन जीवित जल स्रोतों  की सुधि ही नहीं ली नतीजा यह की यह जल स्रोत धीरे-धीरे  समाप्त होते जा रहे हैं।

This image has an empty alt attribute; its file name is hum096.jpg

सरोवर में भरा जा रहा है कचरा

मसोद रोड पर कचरा प्रबंधन यूनिट और स्कूल के समीप ही 3 से अधिक बोर है और इन सब बोरो को रिचार्ज किया जा सके इसके लिए आज से 7 वर्ष पूर्व तत्कालीन नगर पालिका अध्यक्ष सुप्रिया संजय यादव के कार्यकाल में नगरपालिका ने यहां सरोवर का निर्माण किया था इस  का उद्देश्य था यह सरोवर आसपास के नगरपालिका के जल स्रोतों को रिचार्ज कर सके क्योंकि इस क्षेत्र में जितने भी नगरपालिका के बोर है पूर्व के समय में यह मुलताई नगर की पेयजल आपूर्ति का आधार हुआ करते थे किंतु आज उस सरोवर में कचरा भरा जा रहा है और रोचक पहलू यह है कि नगर पालिका ने कचरा प्रबंधन के नाम पर यहा करोड़ों रुपए खर्चा किए और अब यहां प्रबंधन जैसा कुछ दिखाई नहीं देता ।

This image has an empty alt attribute; its file name is hum097.jpg

सरोवर में वर्षों से पड़ा है सांसद निधि का टैंकर

पूर्व सांसद ज्योति धुर्वे द्वारा नगरपालिका को पानी के टैंकर प्रदान किए गए थे कुछ वर्ष पूर्व जब सरोवर में स्थित बोर और कुए का नगर पालिका उपयोग करती थी तब यहां टैंकर को पानी स्टोर करने के लिए खड़ा किया जाता था इसी दौरान वर्षा प्रारंभ हुई और यह टैंकर सरोवर में पानी के बीच रह गया तब से अब तक सांसद निधि का टैंकर इसी खंती में सड़ रहा है किसी ने इसकी सुध नहीं ली जिसे देखकर यह अनुमान लगाया जा सकता है कि नगरपालिका अपनी संपत्ति को लेकर कितनी गंभीर है और विशेष तौर से नगर की पेयजल समस्या को लेकर।

इनका कहना

जल स्रोतों के संरक्षण के भविष्य में प्रयास आवश्यकतानुसार किए जाएंगे फिलहाल तो वहां बोर मे पानी नहीं है इसलिए संरक्षण का प्रश्न नहीं है।

नितिन कुमार बिजवे
मुख्य नगरपालिका अधिकारी मुलताई


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here