मुलताई- पुलिस ने ग्राम खाण्डेपिपरिया के मामले में अंधे कत्ल का खुलासा करते हुए दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है ,मामले की जानकारी देते हुए एसडीओ पुलिस नम्रता सोंधिया ने बताया कि पुलिस को ग्राम खाण्डेपिपरिया सोनू गाठे के गुमशुदगी की शिकायत मिली थी, जांच में जो सनसनीखेज तथ्य सामने आए हैं

उसके अनुसार बहन को प्रताड़ित किए जाने से रुष्ट होकर  साले ने अपने एक मित्र के साथ मिलकर अपने बहनोई सोनू गाठे, की हत्या कर उसका शव कुएं में फेंक दिया था। आमला पुलिस ने उक्त मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार कर शव बरामद कर लिया है, शव परीक्षण के बाद परिवार को सौंपा जा चुका है।

This image has an empty alt attribute; its file name is BTL-9-11-21-343.jpg

पुलिस ने किया 24 घण्टे मे  हत्या का खुलासा,

मामले के संबंध में पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि सरीता पति सोनू गाठे नि. ग्राम खाण्डेपिपरिया बोरदेही ने रिपोर्ट किया कि, वह उसके भाई छन्नु उर्फ मोहन इरपाचे के पास धौंसरा मे रहती थी जो उसके पति सोनू गाठे की आमला आने की खबर मिलने पर दिनाँक 04/11/21 की रात करीबन 20.00 बजे उसके पति सोनू गाठे को आमला से धौंसरा लेकर आने के  लिये उसका भाई छन्नु उर्फ मोहन इरपाचे और उसका दोस्त अर्जुन सिलुकर दोनो आमला गये थे ।

This image has an empty alt attribute; its file name is BTL-9-11-21-341.jpg

रात करीबन 02.00 बजे दोनों ग्राम धौंसरा वापस आये और बताये कि उसका पति सोनू गाठे आमला मे बस स्टैण्ड मे मिला था, मगर वह साथ मे नही आया। सूचनाकर्ता ने उसके भाई छन्नु उर्फ मोहन इरपाचे एवं अर्जुन सिलुकर पर शंका जाहिर  कि उसके पति के संबंध मे उनको जानकारी हो सकती है। आस पास रिश्तेदारी मे तलाश करने पर भी सोनू गाठे नही मिल रहा है। उक्त सूचना पर थाना आमला मे गुम इंसान शिकायत दर्ज कर जाँच की गई तथा सूचना से वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया गया। प्रकरण की गंभीरता को दृष्टीगत रखते हुये, पुलिस अधीक्षक  सुश्री सिमाला प्रसाद के मार्गदर्शन में अति. पुलिस अधीक्षक नीरज सोनी के निर्देशन मे एसडीओपी मुलताई सुश्री नम्रता सोधिया के द्वारा थाना आमला की पुलिस टीम गठित कर, गुमशुदा सोनू गाठे की पतासाजी के प्रयास किये गये तथा सूचनाकर्ता सरीता गाठे का भाई छन्नु उर्फ मोहन इरपाचे को तलबकर हिकमत अमली से पूछताछ की गई। जब सख्ती से पूछताछ की गई तो उसने बताया कि उसका बहनोई सोनू गाठे उसकी बहन सरीता को आये दिन मारपीट करता रहता था और करीबन चार माह पूर्व भी मारपीट करके तमिलनाडू तरफ मजदूरी करने चला गया था। बहन सरीता और उसके दो बच्चों का भी भरण पोषण नही कर रहा था। इस कारण उसने अपने दोस्त अर्जुन सिलुकर के साथ मिलकर सोनू गाठे को ग्राम धौंसरा मे दयाशंकर सोनपुरे के खेत के पास रपटा मे ले जाकर, लात घूंसे मारकर तथा जमीन मे पटककर गमछे से गला घोंटकर हत्या कर दिया तथा लाश को गणपत पवार के कुँये मे अंदर फेंक दिया है। संदेही द्वारा दी गई उक्त सूचना पर ग्राम धौंसरा स्थित गणपत पवार के कुँये मे पहुँचकर सोनू गाठे का शव को ढूढ़ने का प्रयास किया।  उक्त कुँआ काफी पुराना होकर झाड़ियों से घिरा हुआ था तथा करीब 45 फिट पानी भरा हुआ था। ग्राम धौंसरा के युवकों के द्वारा पुलिस को आवश्यक सहयोग प्रदान किया गया। 

This image has an empty alt attribute; its file name is BTL-9-11-21-342.jpg

कुँए के तल मे गमछे से हाथ बंधा हुआ मिला शव

उक्त कुँये की झाड़िया काटकर हटाई गई तथा ग्रामवासियों के सहयोग से पाँच मोटर पम्पों के माध्यम से कुँये का पानी खाली किया गया,  सोनू गाठे का शव कुँये के तल मे गमछे से हाथ बंधा हुआ मिला। शव बरामदी उपरांत शव का पोष्ट मार्टम सीएचसी आमला मे कराया गया। बाद पीएम शव को अंतिम संस्कार हेतु परिजनों के सुपुर्द किया गया।  पुलिस अधीक्षक सुश्री सिमाला प्रसाद के द्वारा घटना स्थल निरीक्षण कर साक्ष्य एकत्रित करने के संबंध मे आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये। मृतक सोनू गाठे की हत्या कर शव कुँए मे फेंकना प्रमाणित पाया जाने से आरोपीगण के खिलाफ थाना आमला में अपराध क्रमाँक 791/21 धारा 302,201,34 भादवि का प्रकरण कायम कर विवेचना मे लिया गया है, तथा आरोपीगण छन्नु उर्फ मोहन पिता शोभाराम इरपाचे उम्र 35 साल नि. ग्राम खाण्डेपिपरिया थाना बोरदेही एवं अर्जुन पिता मन्नु सिलुकर उम्र 24 साल नि. खाण्डेपिपरिया थाना बोरदेही को गिरफ्तार कर कब्जे से मृतक सोनू गाठे का मोबाइल एवं घटना मे प्रयुक्त लाठी जप्त कर लिया गया है । उक्त कार्यवाही में एसडीओपी  मुलताई सुश्री नम्रता सोधिया के नेतृत्व में निरी. संतोष पन्रे, बसंत अहाके,नितिन उइके,पंचम सिंह, आर.एस.रघुवंशी, मनोज,.बसंत,विनय,सुनील,विनय प्रताप,अरविन्द, एवं रामराव एवं एनडीआरएफ टीम बैतूल की भूमिका रही ।

————————————————————-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here