मुलताई- क्षेत्र में हो रही निरंतर वर्षा के कारण जहा नदी नाले उफान पर है, वही क्षेत्र की प्रमुख सिंचाई जल परियोजनाएं क्षमताओं को पार कर ओवरफ्लो होने लगी है। मुलताई क्षेत्र में 4 मध्यम सिंचाई परियोजना है, जिसमें से वर्धा बांध, बुंडाला बांध क्षमता को पार कर वेस्ट वियर से बहने लगे हैं, वहीं चंदोरा एवं पारसढ़ोह बांध अपनी क्षमता को छूने को है।]

ताप्ती सरोवर निरंतर ओवरफ्लो हो रहा है। वर्धा ,ताप्ती, बेल ,चूड़ामणि, छोटा तवा नदी, पूरी क्षमता से जल भर कर लक्ष्य की ओर बह रही है। एचडीओ जल संसाधन विभाग सीएल मरकाम ने जानकारी देते हुए बताया कि ,मध्यम सिंचाई परियोजना बुंडाला अपनी अपनी क्षमता को पार कर वेस्ट वियर से ,10 सेंटीमीटर ऊपर बह रही है,

This image has an empty alt attribute; its file name is BTL-8-9-21-343.jpg

बुंडाला का फुल टैंक लेवल 734. 55 मीटर है। इसके अलावा क्षेत्र की 29 लघु सिंचाई परियोजनाओं में से 17 लघु सिंचाई परियोजना भरकर वेस्ट वियर से बह रही है। निर्माणाधीन वर्धा भी अपने बेस्टवेप लेवल पर पहुंच गया है, इसका वर्तमान लेवल 665 मीटर है इसके अलावा चंदोरा एवं पारसढ़ोह  भी अपने क्षमता को छूने को है। सिंचाई विभाग के सूत्र बताते हैं कि अगर वर्षा का यही आलम रहा तो शीघ्र ही चंदोरा एवं पारसढ़ोह के गेट खोले जा सकते है।

This image has an empty alt attribute; its file name is BTL-8-9-21-341.jpg

चंदोरा पर तैनात उपयंत्री जल संसाधन विभाग सीबी पाटेकर ने बताया कि क्षेत्र की प्रमुख सिंचाई परियोजना चंदोला का फुल टैंक लेवल 685 .95 मीटर है जबकि वर्तमान लेवल 68500 पहुंच गया है चंदोरा बांध अपनी क्षमता को छूने से 95 सेंटीमीटर शेष है। विभागीय गाइडलाइन के अनुसार 15 सितंबर तक फुल टैंक लेवल मेंटेन करना है किंतु इसके पूर्व अगर वर्षा जारी रही तो पानी की आवक के अनुसार मान के गेट खोले जा सकते हैं पार्षदों की बात करें तो इस बांध का फुल टैंक लेवल 639.10 मीटर है जबकि वर्तमान में पारसढ़ोह बांध का लेबल 637.93 मीटर है,पारसढ़ोह बांध का लेबल 638 25 होने पर इसे ऑपरेट किया जाएगा वैसे पारस दो की गाइडलाइन भी 15 सितंबर तक लक्ष्य पूर्ति की रखी गई है।

This image has an empty alt attribute; its file name is BTL-8-9-21-342-1024x601.jpg

इनका कहना


बुंडाला बांध का वेस्ट वियर 10 सेंटीमीटर बह रहा है क्षेत्र की उन 40 में से 17 लघु सिंचाई परियोजनाए क्षमता पूर्ण करने के बाद वेस्ट वियर से बह रही है।
सीएल मरकाम 
एसडीओ जल संसाधन विभाग मुलताई

चंदोरा, पारसढ़ोह प्रमुख सिंचाई परियोजनाएं हैं, सिंचाई विभाग इन बांधो को लेकर  सतर्क है, सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं दोनों बांध क्षमता तक पहुंच गए हैं।
सीबी पाटेकर 
उपयंत्री जल संसाधन विभाग मुलताई

————————————————————————————————

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here