ताप्ती संदेश लिए निकली ताप्ती यात्रा ,65 दिनों में 1800 किलोमीटर पैदल सफर,

मुलताई मां ताप्ती का संदेश लिए प्रतिवर्ष अनुसार ताप्ती पदयात्रा मां ताप्ती मंदिर से प्रारंभ हुई ।  ताप्ती पवित्र नगरी से निकलकर यह पदयात्रा 1800, किलोमीटर का सफर तय कर 65 दिन  बाद ताप्ती समुद्र संगम, स्थल डुमस गुजरात में समाप्त होगी । यात्रा का प्रारंभ सुबह 8:00 बजे मां ताप्ती मंदिर से किया गया, बड़ी संख्या में ताप्ती भक्त एवं ताप्ती पदयात्री  ताप्ती मंदिर पहुंचे, जहां पूजा अर्चना उपरांत बाजे गाजे के साथ ताप्ती यात्रा निकाली गई।

This image has an empty alt attribute; its file name is tapti0341.jpg

इस यात्रा में पूर्व मंत्री एवं स्थानीय विधायक सुखदेव पांसे, पूर्व कलेक्टर डीएस राय, मुरारी अग्रवाल, पूर्व ब्लॉक कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष संजय यादव, सुमित शिवहरे ,कमल सोनी, किशोर परिहार, संजय अग्रवाल, सौरभ जोशी, नितेश साहू सहित बड़ी संख्या में संपूर्ण जिले से ताप्ती भक्त इस यात्रा में शामिल हुए। यात्रा को संबोधित करते हुए सुखदेव पांसे ने हमें मां ताप्ती के नाम से जाना जाता है इसलिए हमारा आचरण भी मां ताप्ती की गरिमा के अनुरूप होना चाहिए उन्होंने ताप्ती यात्रियों को विश्वास दिलाया है कि वह यात्रा में आने वाली किसी प्रकार की समस्या में यात्रियों को सहयोग प्रदान करेंगे।

13 फरवरी को डुमस संगम स्थल पहुंचेगी ताप्ती यात्रा

This image has an empty alt attribute; its file name is tapti0340.jpg

इस यात्रा को लेकर नागरिकों में भी भारी उत्साह देखा गया। जगह-जगह ताप्ती यात्रियों का भव्य स्वागत किया गया, घर आंगन को रंगोली से सजाया गया नगर भ्रमण करते हुए यह ताप्ती पदयात्रा प्रथम पड़ाव मरी माता मंदिर पहुंची, जहां मरी माता मंदिर समिति सदस्यों ने सभी यात्रियों का भव्य स्वागत किया स्वल्पाहार कराया गया ,ताप्ती यात्रा आयोजन मंडल में शामिल राजू पाटनकर ने बताया कि,पहली बार तापी भक्त 65 दिन पैदल चलकर 1800 किलोमीटर की दूरी तय कर मा ताप्ती के बहाव क्षेत्र की सम्पूर्ण परिक्रमा करेंगे।
पुण्य सलिला सूर्य पुत्री मां ताप्ती के उद्गम स्थल से 14 जनवरी को मां ताप्ती संपूर्ण परिक्रमा पदयात्रा का शुभारंभ   हुआ ।

पहली बार पद यात्रा में शामिल ताप्ती भक्त माता ताप्ती उदगम स्थल से  पदयात्रा प्रारंभ कर ताप्ती के बहाव क्षेत्र के  किनारे से चलकर संगम स्थल सूरत डुमस पहुंचेंगे।13 फरवरी को संगम स्थल सूरत डूम्मस पहुंचेंगी,

ताप्ती जल प्रवाह क्षेत्र में पहुंचेगी ताप्ती महिमा 

This image has an empty alt attribute; its file name is tapti0342.jpg

संयोजक मंडल में शामिल राजू पाटनकर, लखमीचंद अग्रवाल, सुरेंद्र सिंह राठौड़, कन्हैया सोनी, तुकाराम कडूकार, आदि ने जानकारी देते हुए बताया कि यात्रा का उद्देश्य ताप्ती जल प्रवाह क्षेत्र से लगे सभी ग्रामों में मां ताप्ती का संदेश पहुंचाना है उद्गम से संगम तक असंख्य दिव्य फलदाई तीर्थ स्थल है जिसमें मूल तापी सांढोले तीर्थ बालेगांव बले गांव सरवण तीरथ महाराज दो बोरी काश मां ताप्ती से बाल नदी मिलकर पूर्ण ओम बनाती है 12 लिंग आदि स्थलों की महिमा देखते ही बनती है। यात्रा में करुणा काल का नियम हो समिति द्वारा यह भी सुनिश्चित किया जाएगा और इस यात्रा के माध्यम से मां ताप्ती से यह प्रार्थना की जाएगी की ,नागरिकों को कोरोना जैसी महामारी से शीघ्र मुक्ति दिलाएं।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here