लकड़ी व्यापारियों की भेंट चढ़ रहे सैकड़ों हरे भरे वृक्ष,

साड़ियां ग्राम में 2 सप्ताह से हो रही है कटाई

मुलताई – मुलताई क्षेत्र से लगे ग्रामों में बड़ी मात्रा में हरे भरे वृक्ष काटे जा रहे हैं इन हरे भरे वृक्षों को ग्रामीण क्षेत्रों से काटकर मुलताई नगर की आरा मशीनों पर लाया जा रहा है। जहां इन वृक्षों से पल्ले बाटम बनाए जा रहे है।

नगर से लगे ग्रामीण क्षेत्रों में दिनदहाड़े कट रहे, इन हरे-भरे वृक्षों की संख्या देखकर यह कहना अतिशयोक्ति नहीं होगा कि, अगर यह सिलसिला यूं ही जारी रहा तो, क्षेत्र में वृक्षों को खोजना कठिन हो जाएगा। निकटतम ग्राम साडिया के आसपास कटे सैकड़ों हरे-भरे वृक्ष इस तथ्य की पुष्टि करते हैं। मुलताई मसोद रोड पर  नगर से मात्र 5 किलोमीटर दूरी पर स्थित ग्राम सांडिया के पास मुख्य मार्ग से पूरब दिशा की ओर 1 किलोमीटर एरिया में खेतों की मेड़ों और राजस्व क्षेत्र नदी, नालों पर स्थित हरे-भरे सैकड़ों वृक्षों की अंधाधुंध कटाई की गई है। 

This image has an empty alt attribute; its file name is tapti0272.jpg

कटे हुए वृक्षों के थूटो से भरे पड़े हैं नाले

ग्रामीणों की जानकारी के आधार पर जब हम वृक्षों की कटाई वाले स्थानों पर पहुचे, हमारे आश्चर्य का ठिकाना नहीं रहा 30 से 40 फीट लंबी नाले हरे भरे वृक्षों के थूटों से भरी हुई थी, और यह कटे पेड़ किसी को दिखाई ना दे इसके लिए आजू बाजू से  झाड़ियां खड़ी कर दी गई थी, ताकि लोग इसे देख ना सके। ऐसा एक-दो स्थान पर नहीं था बल्कि साड़ियां जोड़ के पूर्व भाग में लगभग आधे दर्जन से अधिक स्थानों पर बड़ी संख्या में पेड़ काटे गए हैं। ग्रामीण बताते हैं कि इन पेड़ों को खेत मालिकों द्वारा लकड़ी व्यापार से जुड़े व्यापारियों को बेच दिया गया है। जिन्हें व्यापारी मशीनों से कटवा रहा है। बीते 2 सप्ताह से निरंतर वृक्षों की कटाई की जा रही है। इसमें से कुछ पेड़ खेतों के मुंडेर पर लगे हैं तो कुछ नदी नालों की मेड पर राजस्व भूमि में लगे वृक्ष भी शामिल है। 

This image has an empty alt attribute; its file name is tapti0274.jpg


दिनदहाड़े काटे जा रहे हैं हरे भरे पेड़,

सभी नियमों को ताक पर रखकर, जिस प्रकार सरेआम, दिनदहाड़े सैकड़ों पेड़ों को काटा जा रहा है, वह बगैर मिलीभगत और संरक्षण के संभव नहीं है। दिनदहाड़े पेड़ काटे जा रहे हैं वाहनों से भरकर मुलताई की आरा मशीनों पर खाली किए जा रहे हैं। मशीनें रातों-रात इन वृक्षों को पटीयो में तब्दील कर रही है, ताकि संतरा पेटी के लिए पल्ले बाटम बनाए जा सके, और यह संपूर्ण खेल बगैर मिलीभगत के होना संभव नहीं है।ग्रामीणों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि सांडिया ग्राम के आसपास एक लकड़ी व्यापारी द्वारा बड़ी मात्रा में वृक्षों को खरीद रहा है। उक्त व्यापारी जो अपने आप को ग्राम प्रमंडल निवासी बताता है ,किसानों के मेड के वृक्षों के साथ ही राजस्व क्षेत्र के नदी नालों के किनारे लगे वृक्षों को भी अवैध रूप से काट रहा है।

इनका कहना

हरे भरे वृक्षों को व्यावसायिक उद्देश्य से नहीं काटा जा सकता,  सांडिया का मामला दिखाते हैं। सही पाए जाने पर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

सुधीर जैन
तहसीलदार मुलताई

हरे-भरे वृक्षों बगैर स्वीकृति के परिवहन नहीं किया जा सकता ।अगर वन विभाग को इस मामले में जानकारी मिलती है ठोस कार्रवाई की जाएगी।

अमित साहू वन परीक्षेत्र अधिकारी मुलताई

————————————————————————————————————————

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here